जानिए कौन है पिछले तीन महीनों से जेल में बंद मीरान हैदर

जेल में बंद मीरान हैदर वर्तमान में युवा राजद दिल्ली के प्रदेश अध्यक्ष हैं । लेकिन जामिया छात्र नेता के नाम से ज्यादा लोकप्रिय हैं, मीरान हैदर जामिया मिल्लिया इस्लामिया से पी.एच.डी कर रहे हैं। उन्होंने स्कूलिंग, ग्रेजुएशन, मास्टर्स तथा एम.फील. भी जामिया से ही किया है। मीरान हैदर पिछले 6 सालों से जमिया में एक्टविस्म कर रहे हैं और वह अपना कैरियर राजनीती के क्षेत्र में बनाना चाहते हैं। अपने कैरियर का पीछा करते हुए इन्होंने राष्ट्रीय जनता दल ज्वाइन किया और इनको दिल्ली युवा राजद का प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया तथा इन्होंने अपनी ज़िम्मेदारियां बख़ूबी निभाई, हलांकि जेल में जाने के बाद इनकी पार्टी ने साथ नहीं दिया। मीरान हैदर अभी दिल्ली हिंसा केस के आरोपी हैं और पिछले तीन महीनों से जेल में बंद हैं।

मीरान हैदर को दिल्ली पुलिस ने 1 अप्रैल को पूछताछ के लिए बुलाया और फिर गिरफ़्तार कर अगले दिन यानि 2 अप्रैल को मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के सामने पेश किया, मजिस्ट्रेट ने मिरान हैदर को 4 दिनों के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया और फिर तबसे मिरान हैदर जेल में हैं। दिल्ली पुलिस ने मिरान हैदर को भारतीय दंड संहिता की धारा 124 A(sedition), 302(murder), 307(attempt to murder), 135 A(promoting enmity between different groups on ground of religion, etc) and 120 B(criminal conspiracy),इत्यादि के अंतर्गत गिरफ़्तार किया है। और फिर कुछ दिनों बाद दिल्ली पुलिस ने UAPA जैसे कठोर धारा लगा दिया जिसके बाद मीरान हादर को अभी तक जमानत नहीं मिल पाई। दिल्ली पुलिस ने मीरान हैदर पर टेरर फंडिंग का भी आरोप लगाया है।

जामिया के छात्रों और उनके साथियों ने की रिहाई की मांग

मीरान हैदर का कोई आपराधिक इतिहास नहीं है, इससे पहले उनके ऊपर किसी भी प्रकार का कोई आरोप नहीं लगा लेकिन अचानक इस प्रकार की गिरफ़्तारी से जामिया के छात्र और उनके साथी क़ाफी परेशान हैं। पिछले पंद्रह सालों से जामिया में हैं मीरान हैदर, लेकिन आज तक एक भी कारण बताओ नोटिस नहीं मिला। जामिया के छात्र और उनके साथी समय-समय पर सोशल मीडिया के सहारे उनकी रिहाई की मांग कर रहे हैं। कई बार ट्वीटर ट्रेंड भी करवाया गया लेकिन अभी तक उसका कोई असर नहीं दिख रहा । मिरान हैदर के क़रीबी दोस्तों का कहना है यह सभी आरोप झूंठे हैं, मिरान को फंसाया जा रहा है।

जामिया से शुरू हुई एंटी-सीएए प्रदर्शन के मुख्य चेहरा थे मीरान हैदर

जामिया से शुरू हुई एंटी-सीएए आंदोलन से मीरान हैदर शुरू से जुड़े थे, उनके अगर सभी भाषणों को सुना जाए तो एक बात सामान्य दिखती है, वह अपने सभी भाषणों में संविधान बचाने की बात करते थे और आरएसएस- बीजेपी को जमकर लताड़ते थे। उन्के सभी भाषणों में महात्मा गांधी तथा भीम राव अम्बेदकर का ज़िक्र ज़रूर होता था। इस आंदोलन के दौरान उन्हे देश के विभिन्न जगहों पर चल रहे प्रदर्शनों में मुख्य वक्ता के रूप बुलाया गया।
मीरान हैदर जामिया के छात्रों की मजबूत आवाज़ थें, पिछले पांच सालों से वह निरंतर छात्र-हितों के लिए लड़ रहें थे। इस दौरान उनहोंने जामिया के अंदर छात्र-संघ बहाल करवाने के लिए लगभग आठ दिनों तक भूख हड़ताल किया।

सामाजिक कार्यों में रहते थे सबसे आगे

मीरान हैदर सामाजिक कार्यों में हमेशा आगे रहते थे। जब दिल्ली पुलिस ने उन्हे गिरफ़्तार किया, उस समय वह लॉकडाउन में फंसे मजदूरों की मदद कर रहे थे। इससे पहले भी वह हमेशा सामाजिक कार्यों में लिप्त रहते थे, और समय-समय पर जामिया नगर के झुग्गियों में जाकर जरूरतमंदों की मदद किया करते थे। जामिया के ग़रीब और जरूरतमंद छात्रों के मदद के लिए हमेशा आगे रहते थे और विदेशों में कार्यरत जामिया के पूर्व छात्रों से राबता कर ग़रीब छात्रों को आर्थिक मदद दिलाते थे।

बिहीर के सिवान जिला के रहने वाले हैं मिरान हैदर

म़िरान हैदर सिवान जिला के बड़हड़िया विधानसभा के नासिर छपरा गांव के रहने वाले है। उनका परिवार अभी इसी गांव में रहता है। 2005 में उन्होने जामिया स्कूल में दाख़िला लिया था और फिर तब से अभी तक वह दिल्ली में ही हैं।

Iwt ads
Share

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.